कुर्मी क्षत्रिय महासभा ने किसान आंदोलन के समर्थन मे किया द्विवसीय मौन व्रत

 

न्यूज़ टैंक्स- बाँदा

बाँदा। अखिल भारतीय कुर्मि क्षत्रिय महासभा बाँदा की जिला इकाई ने आज चल रहे किसान (Farmer) आंदोलन में शहीद हुए किसानों के समर्थन में एक द्विवसीय मौन व्रत धारण किया५५ और किसान विरोधी काले कानून के खिलाफ विरोध कर बताया कि उद्योग पतियों के दबाव में भारत सरकार द्वारा जल्दबाजी में लाये गए ,किसान विरोधी कृषि कानूनों की समाप्ति के लिए देशभर से भारत की राजधानी दिल्ली ल नजदीक भीषण ठंड में खुले आसमान के नीचे 24 दिनों से शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे अन्नदाताओं के समर्थन एवं शांतिपूर्ण आंदोलन के दौरान शहीद हुए , दर्जनो किसानों आत्मा की शांति के लिए अखिल भारतीय कुर्मी क्षत्रिय महासभा बाँदा की जिला इकाई के तत्वावधान में आज दिनांक 20 / 12/ 2020 दिन रविवार को महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एवं 1928 में बारदोली किसान आंदोलन का सफल नेतृत्व कर चुके सरदार बल्लभ भाई पटेल की प्रतिमा के नीचे जिला अध्यक्ष दिनेश सिंह पटेल की अध्यक्षता में जिला कमेटी द्वारा एक द्विसीय मौन व्रत रखकर देश के लिए शहीद हुए किसानों को विन्रम श्रंद्धाजलि अर्पित कर किसान भाइयों के आंदोलन के प्रति अपना समर्थन व्यक्त किया गया, मौन व्रत के बाद पत्रकार बन्धुओं के प्रश्नों का जवाब देते हुए प्रदेश सचिव राममिलन सिंह पटेल एडवोकेट ने कहा कि , केंद्र सरकार द्वारा जल्दबाजी एवं उद्योग पतियों के दबाव में पारित किए गए तीनो कृषि कानून भारत के किसानों के लिए एक प्रकार डेथ वारंट है , इन तीनो कानूनों के कारण भारत का किसान उद्योग पतियों के हाथों की कठपुतली बनकर रह जायेगा और देश की जनता को महंगाई के कारण एक एक अन्न के लिए तरसना पड़ेगा , इस मौके पर कार्यालय व मीडिया प्रभारी अरुण कुमार पटेल (कोर्राखुर्द), श्रवण कुमार पटेल (ग्राम प्रधान) , विनय सिंह पटेल (उपाध्यक्ष) , डॉ श्यामसुंदर राजपूत , कुलदीप सिंह पटेल , रवि आहूजा , रावेंद्र , कौशल आदि